Incest बहकती बहू 2

पर बेचारी बहु ये नहीं जानती थी की पलटकर उसने अपने बूढ़े ससुर पर और भी जानलेवा हमला कर
दिया है। Antarvasna Hindi Sex Stories Kamukta
अब आगे —
काम्या के पीछे घूमते ही मदनलाल के सामने जो दृश्य आया वो उसकी जिंदगी को पूरी तरह
बदल कर रख देने वाला था। उसकी नज़रों के सामने जवानी से उफनती उसकी बाइस वर्षीय बहु की
मादक गांड थी जिसे देखकर मदनलाल अपने होशो हवाश खो बैठा।
kamya ki manohaari gaand #####33

read more

Incest बहकती बहू 1

मदनलाल बाजार से लौटकर घर पहुंचा और सीधे बाथरूम की तरफ भागा Antarvasna Hindi Sex Stories Kamukta उसके घर में लेट् कम बाथरूम था। बाथरूम का दरवाजा जरा सा खुला था इसलिए उसने सोचा कि अंदर कोई नहीं होगा और सीधे धड़धड़ाते हुए अंदर घुस गया। अंदर घुसते ही उसने जो देखा तो उसकी सांस ही रुक गई। अंदर उसकी नयी नवेली बहु काम्या मादरजात नंगी खड़ी थी।

read more

Antarvasna महाकौशल एक्सप्रेस

महाकौशल एक्सप्रेस की उस दिन की यात्रा
मैंने प्लान नहीं की थी . मैंने तो जबलपुर से
दिल्ली Antarvasna Hindi Sex Stories Kamukta
की फ्लाइट बुक करा रखी थी परन्तु सुबह को
पता चला कि गहरे कोहरे के कारण दिल्ली की
सभी फ्लाइट रद्द कर दी गयी है तो मेरे ऑफिस
ने महाकौशल के फर्स्ट क्लास A/C डिब्बे मैं
मेरी
सीट बुक कर दी. मैं जबलपुर एक हफ्ते के लिए
आया था और ये पूरा हफ्ता काफी व्यस्त रहा
था .
शाम को भी देर तक मीटिंग्स चलती रहती थी.
मेरी कोशिश थी कि सब काम समय से पूरा हो
जाये क्योंकि किसी मनोरंजन कि व्यवस्था भी
जबलपुर का ऑफिस नहीं करा पाता था.
ऑफिस मे २-३ स्त्री अधिकारी थी पर मैं
उनको ज्यादा पसंद नहीं करता था . खैर इस
तरह पांच
दिन पुरे हुए और मैं अपने घर जाने के लिए बेताब
था परन्तु कोहरे ने सारे रंग में भंग कर दिया .
अब
शुक्रवार कि शाम को घर पहुचने के बजाये मैं
शनिवार को दोपहर तक ही पहुँच पाने कि
उम्मीद कर
सकता था क्योंकि कोहरा रेलगाड़ी को भी
पक्का लेट कर देगा. मैंने उदास मन से महाकौशल
का चलने का पता किया . बताया गया कि
गाड़ी सही समय पर है. क्योंकि , गेस्टहाउस मे
कुछ
करने को नहीं था तो मैं 5 बजे ही स्टेशन पर
पहुंच गया .
स्टेशन पर जैसे हमेशा भीड़ होती है यहाँ भी
वैसा ही था. रेलगाड़ी प्लेटफार्म एक पर आनी
थी और
अभी तीस मिनट का समय था. मेरे पास दो अदद
थे. एक में कपडे और दुसरे में रास्ते के लिए खाने
पीने
का सामान . मैंने खोमचेवाले से पूछ कर जंहा
फर्स्ट क्लास A/C का डब्बा लग्न था वहा
अपना
सामान रखा और फ़ोन निकल कर घर पर फोन
लगाया. मेरी पत्नी वसुधा ने फ़ोन उठाया . मैं
उसे
पहले ही बता चूका था कि मैं अब कल पहुन्चुगा
और वो भी काफी मायूस हुई थी. हम दोने ही
एक
दुसरे को बहुत मिस कर रहे थे और दोनो ही
चुदाई के लिए बैचन हो रहे थे. कल जब मुझे
फ्लाइट रद्द
होने का नहीं पता था तो मैंने उसे कहा था कि
शुक्रवार की रात को घमासान चुदाई होने
वाली
है. तो वसुधा भी खुश हो गयी थी और कहने लगी
मरी तो मैं भी जा रही हूँ ऐसा करती हूँ कि
रंतिम ( हमारा बेटा) को दादी
-दादा के पास भेज देती हूँ. तुम्हारे पुरे दम देख
लूंगी.

read more

भाई ने ग़लतीसे भाभी समझकर

मेरी उम्र २१ साल की है और मेरे भाई की २७ साल की, भाई की शादी इसी साल हुयी थी, भाभी बड़ी ही हॉट है Antarvasna Hindi Sex Stories Kamukta वो ऐसी है जैसे की पटाखा हो, कोई भी मर्द उसको देख ले उसकी रात की नींद उड़ जाये, भाई की भी नींद आजकल उडी हुयी है, क्यों की आज कल दिन में २ बार तो मैंने उसको देखा है भाभी को चोदते हुए. पर आज वाक्या ऐसा हुआ की मैं चुद गई.।रात के करीब ११ बज रहे थे, भैया अपने दोस्त की शादी की पार्टी में से आये थे, भाभी का शाम से ही पेट दर्द कर रहा था तो वो मेरी माँ के कमरे में पेट पे गरम पानी की थैली से सिकाई करवा रही थी और उनको नींद आ गया, मैंने माँ से कहा माँ भाभी को बोलो अपने कमरे में सोने के लिए तो बोली सोने दे अभी आराम हो जायेगा, मैं भी सोची माँ सही बोल रही है, तभी लाइट चली गयी, मेरा नाईटी नहीं मिल रहा था तो मैंने भाभी की नाईटी डाल ली और छत पे सोने चली गयी, माँ भाभी निचे सो रही थी भाभी माँ के कमरे में थी, भैया आये रात के करीब ११ बजे वो भाभी के कमरे में गए, भाभी वह नहीं थी, वो समझ गए की लाइट नहीं है हो सकता है की वो छत पे होगी.

read more

देवर से चुदवाया खुश होकर

मेरा नाम नीलू है और में गोरखपुर की रहने वाली हूँ। दोस्तों में पहली बार इस साईट पर कुछ लिख रही हूँ Antarvasna Hindi Sex Stories Kamukta मैंने इस पर बहुत सी सेक्सी कहानियाँ पढ़ी है.. जो मुझे बहुत अच्छी लगी और जिन्हें पढ़कर मुझे यह कहानी लिखने की इच्छा हुई और आज में जो कहानी बताने जा रही हूँ.. वो मेरे जीवन मैं घटी हुई एक सच्ची घटना है। जिसे कुछ लोग शायद झूठ समझ लेंगे या कुछ लोग समझ लेंगे कि कॉपी की हुई है.. लेकिन मुझे इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता कि आप क्या सोचते हैं। बस में लिख रही हूँ और मुझसे इसमें कोई गलती हो तो मुझे माफ़ करना। दोस्तों मेरे देवर ने ज़रूर मेरी कई बार चुदाई कर डाली.. लेकिन वो मेरे घर की बात है। मेरी उम्र 27 साल है और में एक सामान्य फिगर की औरत हूँ। मेरी चूचियाँ बहुत बड़ी तो नहीं.. लेकिन हाँ इतनी मस्त तो ज़रूर है कि मेरे देवर उन्हे मसलकर खुश हो जाते है और वो ऐसे ही उन्हे मसलने की कोशिश में रहते है। मेरे देवर की उम्र 25 साल है और वो देवरिया में रहता है।

read more

बहन के बदन की गरमी 2

कमरे में आते ही कंचन ने अपनी साड़ी उतार फेंकी, लपक कर मेरी शर्ट और जींस खोल दी। अब मैं सिर्फ अंडरवीयर में था Antarvasna Hindi Sex Stories Kamukta कंचन ने अगले ही पल अपनी ब्लाउज को खोल दिया और पेटीकोट भी उतार दिया। अब वो भी सिर्फ ब्रा और पेंटी में और मैं सिर्फ अण्डरवीयर में था।
वो मुझे अपने सीने के लपेट कर पागलों की तरह चूमने लगी, मेरे पूरे बदन को चूमने-चाटने लगी।
कंचन- भैया, आ जा ! अब जो भी करना है आराम से कर ! मुझे भी तेरी काफी प्यास लगी है, मेरी प्यास बुझा दे, चीर डाल मुझे !
मैंने अपना अंडरवीयर खोल दिया, मेरा 9 इंच का लंड किसी तोप की भांति कंचन की तरफ निशाना साधे खड़ा था। मैं आगे बढ़ा और अपना लंड अपनी प्यारी छोटी बहन के हाथों में थमा दिया।
कंचन मेरे लंड को सहलाने लगी, बोली- बाप रे बाप ! कितना बड़ा लंड है रे !
मैंने कंचन की चूचियों का दबाते हुए कहा- कंचन, तू बड़ी मस्त है ! जीजा जी को तो खूब मज़े देती होगी तू !
कंचन- तू भी ले न मज़े ! तू तो मेरा सगा भाई है, तेरा भी उतना ही हक बनता है मुझ पर ! अब से तू मेरा दूसरा खसम है !
मैंने- हाँ कंचन ! क्यों नहीं !
कंचन- हाय, कितना अच्छा लगता है अपने बड़े भाई से ये सब करवाना, सच बता कितनियों को चोदा है तूने अब तक?
मैंने- अब तक एक भी नहीं कंचन डार्लिंग, आज तुझसे ही अपनी ज़िंदगी की पहली चुदाई शुरू करूँगा।
मैंने कंचन की ब्रा को खोला और मुम्मों को नंगा करके आज़ाद कर दिया। उसके मुम्में तो ऐसे थे कि आज तक मैंने किसी ब्लू फिल्मों की रंडियों के मुम्में भी वैसे नहीं देखे थे, एकदम चिकने और गोरे, एक तिल का भी दाग नहीं था !
मैंने उसकी घुंडियों को अपने मुँह में लिया और चूसने लगा। कंचन सिसकारियाँ भरने लगी। मैंने उसे लिटा लिया, उसके बदन के हर अंग को चूसते हुए उसकी कच्छी पर आया, वो बिल्कुल गीली हो चुकी थी। मैं उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी फ़ुद्दी को चूसने लगा।
कंचन पागल सी हो रही थी।
मैंने धीरे धीरे उसकी पेंटी को उसकी चूत पर से हटाया। आह ! क्या शानदार चूत थी ! लगता ही नहीं था कि पिछले चार महीने से इसकी चुदाई हो रही थी ! गोरी गोरी चूत पर काली काली झांटें ! ऐसा लगता था चाँद पर बादल छा गए हों ! मैंने झांटों को हाथ से बगल किया और उसके चूत को उँगलियों से फैलाया, अन्दर एकदम लाल नजारा देख कर मेरा दिमाग ख़राब हो रहा था। मैंने झट से उसकी लाल लाल चूत में अपनी लपलपाती जीभ डाली और स्वाद लिया, फिर मैंने अपनी पूरी जीभ जहाँ तक संभव हुआ उसकी चूत में घुसा कर चूस चूस कर स्वाद लेता रहा।
कंचन जन्नत में थी, उसने अपनी दोनों टांगों से मेरे सर को लपेट लिया और अपनी चूत की तरफ दबाने लगी। दस मिनट तक उसकी चूत चूसने के बाद उसकी चूत से माल निकलने लगा। मैंने बिना किसी शर्म के सारा माल को चाट लिया।
कंचन बेसुध होकर पड़ी थी, वो मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी।
मैंने कहा- सच बता कंचन, जीजा जी से पहले कितनों से चुदवाया है तूने?
कंचन- तेरे जीजा जी से पहले सिर्फ दो ने चोदा है मुझे !
मैंने कहा- हाय, किस किस ने तुझे भोगा री?
कंचन- जब मैं स्कूल में थी तब स्कूल की एक सहेली के भाई ने मुझे तीन बार चोदा। फिर जब मैं उन्नीस साल की थी तो कालेज में मेरा एक फ्रेंड था, हम सब एक जगह पिकनिक पर गए थे, तब उसने मुझे वहाँ एक बार चोदा। एक साल बाद तो मेरी शादी ही तेरे जीजा जी से हो गई।
मैंने- तब तो मैं चौथा मर्द हुआ तेरा न?
कंचन- हाँ ! लेकिन सब से प्यारा मर्द !
मैं उसके बदन पर लेट गया आर उसके रसीले होंठ को अपने होंठों में लिए और अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी। कभी वो मेरी जीभ चूसती, कभी मैं उसकी जीभ चूसता। इस बीच मैंने उसके दोनों टांगों को फैलाया और उसकी चूत में उंगली डाल दी। कंचन ने मेरा लंड पकड़ा और उसे अपने चूत के छेद के ऊपर ले गई और हल्का सा घुसा दिया। अब शेष काम मेरा था, मैंने उसकी जीभ को चाटते हुए ही एक झटके में अपना लंड उसके चूत में पूरा डाल दिया।
वो दर्द में मारे बिलबिला गई।
बोली- अरे, फाड़ देगा क्या रे? निकाल रे !

read more

मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग 2

और मेरी भाभी से कहा कि “तुम तो चुदाई का मज़ा लेती ही रही हो. इतना मज़ा किसी और चीज़ मै नही है Antarvasna Hindi Sex Stories Kamukta इसलिये चुपचाप खुद भी मज़ा करो और हमे भी करने दो.”

इतना सुन कर, और जान के भय से भाभी और मैं दोनो ही शांत पड़ गये. भाभी को शांत होते देख कर वह जो भाभी की टांग पकड़े बैठा था वह भाभी कि चूत चाटने लगा, और दूसरा कस-कस कर भाभी की चूचियां मसल रहा था. भाभी सी-सी करने लगी. भाभी को शांत होते देख मैं भी शांत हो गयी और चुपचाप उन्हे मज़ा देने लग गयी. मेरी भी चूत और चूचि दोनो पर ही एक साथ आक्रमण हो रहा था. मैं भी सिसिया रही थी. तभी मुझे जोरों का दर्द हुआ और मैंने कहा, “हाय यह तुम क्या कर रहे हो?”

read more

मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग 1

प्रिय पाठकों, मेरा नाम वीणा है, उम्र २२ साल, फ़िगर ३४/२७/३५, रंग बहुत गोरा Antarvasna Hindi Sex Stories Kamukta मैं अपना एक नया अनुभव पेश कर रही हूँ जो मेरे साथ तब हुआ जब मैं अपने मामा, मामी और कज़िन भाभी के साथ मेला देखने गई थी.

read more

दोस्त की मस्त बहिन 1

“ओये लाला …. कहाँ मर गया साले …जल्दी आ बाहर ..”
Antarvasna Hindi Sex Stories Kamukta
गली में खड़ा हुआ सरफराज अपने दोस्त बाबु उर्फ़ लाला के घर के बाहर खड़ा हुआ चिल्ला रहा था ..

बाबु घर की छत्त से बाहर की तरफ झांकते हुए बोला : “अबे क्यों चिल्ला रहा है बे ..तेरी बहन भाग गयी क्या अपने यार के साथ ..”

read more

बहन के बदन की गरमी 1

मेरा नाम राकेश है। बात उन दिनों की है जब मेरी उम्र 25 साल की थी और मैं बंगलौर में इंजीनियरिंग पढ़ रहा था Antarvasna Hindi Sex Stories Kamukta मैं पटियाला का रहने वाला हूँ। मेरे एक्जाम समाप्त हो गए थे तो कुछ दिनों की छुट्टियों में घर आया था। मेरी छोटी बहन कंचन की शादी कुछ ही दिन पहले हुई थी। मेरे जीजा पेशे से सैनेटरी वेयर के थोक विक्रेता थे, उन्होंने काफी पैसा कमा रखा था। कंचन की उम्र 2० साल की थी, वो हमारे पैतृक घर के पास ही रहते थे! उसकी जवानी पूरे शवाब पर थी, झक्क गोरा बदन और कंटीले नैन नक्श और गदराये बदन की मालकिन थी।
जब जीजा जी दुकान चले जाते थे तो मैं और कंचन दिन भर ऊपर बैठ कर गप्पें हांका करते थे। सच कहूँ तो वो मुझे अपना दोस्त मानती थी। बचपन से ही वो मेरे सामने बड़े ही सहज भाव से रहती थी, अपने कपड़े भी मेरे सामने ठीक से नहीं पहनती थी, उसके वक्ष की आधी दरार हमेशा दिखती रहती थी, कभी कभी तो सेक्स की बात भी कर लेती थी। जब भी मुझे अकेली पाती थी तो हमेशा द्वीअर्थी बात बोलती थी, जैसे बछड़ा भी दूध देता है, तेरा डंडा कितना बड़ा है? तुझे स्पेशल दवा की जरुरत है, आदि !
दिन भर मेरे कालेज और बंगलौर के किस्से सुनती रहती थी।
जब मेरे बंगलौर जाने के कुछ शेष रह गए तो एक दिन कंचन ने कहा- हम भी बंगलौर घूमने जाना चाहते हैं।
मैंने कहा- हाँ क्यों नहीं ! आप दोनों मेरे साथ ही इस शनिवार को चलिए, मैं आप दोनों को पूरी सैर करवा दूँगा।
कंचन ने अपनी इच्छा जीजा जी को बताई तो जीजा जी तुरंत मान गए। मैंने उसी समय इन्टरनेट से तीन टिकट एसी फर्स्ट क्लास में बुक करवा लिए। शनिवार को हमारी ट्रेन थी, शनिवार को सुबह हम तीनों ट्रेन से बंगलौर के लिए रवाना हुए। अगले दिन शाम सात बजे हम सभी बंगलौर पहुँच गए। मैंने उनको एक बढ़िया होटल में कमरा दिला दिया। उसके बाद मैं वापस अपने होस्टल आ गया। होस्टल आने पर पता चला कि कालेज के गैर शिक्षण कर्मचारी अपनी वेतनवृद्धि की मांग को लेकर अनिश्चित कालीन हड़ताल पर जा रहे हैं और इस दौरान कालेज बंद रहेगा। मेरे अधिकाँश मित्रों को यह बात पता चल गई थी इसलिए सिर्फ 25-30 प्रतिशत छात्र ही कालेज आये थे।
मैं अगले दिन करीब 11 बजे अपने जीजा जी के कमरे पर गया, वहाँ वे दोनों नाश्ता कर रहे थे। कंचन ने मेरे लिए भी नाश्ता लगा दिया। मैंने देखा कि जीजा जी कुछ परेशान हैं।
पूछने पर पता चला कि जिस कम्पनी का उन्होंने फ्रेंचाइजी ले रखा है उस कम्पनी ने दुबई में जबरदस्त सेल ऑफ़र किया है, अब जीजा जी की परेशानी यह थी कि अगर वो वापस कंचन को पटियाला छोड़ने जाते और वहाँ से दुबई जाते तो तब तक सेल समाप्त हो जाती और अगर साथ में लेकर दुबई जा नहीं सकते थे क्योंकि कंचन का कोई पासपोर्ट वीजा था ही नहीं।
मैंने कहा- अगर आप दुबई जाना चाहते हैं तो आप चले जाएँ क्योंकि मेरा कालेज अभी एक सप्ताह बंद रह सकता है। मैं कंचन को या तो पटियाला पहुँचा दूँगा या फिर आपके वापस आने तक यहीं रहेगी। आप दुबई से यहाँ आ जाना और फिर घूम फिर कर कंचन के साथ वापस पटियाला चले जाना।
जीजा जी को मेरा सुझाव पसंद आया।
कंचन ने भी कहा- हाँ जी, आप बेफिक्र हो कर जाइए और वापस यहीं आइयेगा। तब तक भैया मुझे बंगलौर घुमा देगा। आपके साथ मैं दोबारा घूम कर वापस आपके साथ ही पटियाला जाऊँगी।
जीजा जी को कंचन का यह सुझाव भी पसंद आया।
लैपटॉप पर इन्टरनेट खोल कर देखा तो उसी दिन के दो बजे की फ्लाईट में सीट खाली थी। जीजा जी ने तुरंत सीट बुक की और हम तीनों एयरपोर्ट के लिए निकल पड़े। दो बजे जीजा जी की फ्लाईट ने दुबई की राह पकड़ी और मैंने एवं कंचन ने बंगलौर बाज़ार की।
कंचन के साथ लंच किया, घूमते घूमते हम मल्टीप्लेक्स आ गए। शाम के सात बज गए थे, कंचन ने कहा- काफी महीनों से मल्टीप्लेक्स में सिनेमा नहीं देखा, आज देखूँगी।
मैंने देखा कि कोई नई पिक्चर आई थी, इसलिए सारी टिकट बिक चुकी थी। उसके किसी हाल में कोई एडल्ट टाइप की इंग्लिश पिक्चर की हिंदी वर्सन लगी हुई है, फिल्म चार सप्ताह से चल रही थी इसलिए अब उसमें कोई भीड़ नहीं थी।
मैंने दो टिकट सबसे कोने के लिए और हम हाल के अन्दर चले गए। मुझे सबसे ऊपर की कतार वाली सीट दी गई थी और उस पूरी कतार में दूसरा कोई भी नहीं था। हमारी कतार के पीछे सिर्फ दीवार थी, मैंने जानबूझ कर ऐसी सीट मांगी थी। मेरा आगे वाले तीन कतार के बाद कोने पर एक लड़का और लड़की अकेले थे, उस कतार में भी उसके अलावा कोई नहीं था। उससे अगली कतार में दूसरे कोने पर एक और जोड़ा था, इस तरह से उस समय 300 दर्शकों की क्षमता वाले हाल में सिर्फ 20-22 दर्शक रहे होंगे। पता नहीं इतने कम दर्शकों के लिए फिल्म क्यों लगा रखी थी।
कंचन मेरे दाहिने ओर बैठी, कंचन के दाहिने दीवार थी। तुरंत ही फिल्म चालू हो गई।
फिल्म शुरू होने के तुरंत बाद ही मेरे बाद के चौथे कतार में बैठे लड़के एवं लड़की ने होठों से चूमाचाटी करना चालू कर दिया। हालांकि बंगलौर के सिनेमा घरों में इस तरह के नजारे आम बात हैं, हर शो में कुछ लड़के लड़की सिर्फ इसलिए ही आते हैं।
कंचन ने उस जोड़े की तरफ मुझे इशारा करके कहा- हाय देख तो भैया ! कैसे खुलेआम चूम रहे हैं।
मैंने कहा- कंचन, यहाँ आधे से अधिक सिर्फ इसलिए ही आते हैं। सिनेमा हाल ऐसे काम के लिए बेस्ट हैं। तुम उस कोने पर बैठे उस जोड़े को तो देखो, वो भी यही काम कर रहे हैं। अभी तो सिर्फ एक दुसरे को किस कर रहे हैं, आगे देखना क्या क्या करते हैं। तुम ध्यान मत देना इन सब पर ! सब मस्ती करते हैं, यही तो जिन्दगी है।
कंचन- तूने भी कभी मस्ती की या नहीं इस तरह से सिनेमा हाल में?
मैंने कहा- अभी तक तो नहीं की लेकिन अब के बाद पता नहीं !
तुरंत ही फिल्म में सेक्सी सीन आने शुरू हो गए, कंचन ने मेरे कान में फुसफुसा कर कहा- हाय राम, जरा देखो तो यह कैसी सिनेमा है।
मैंने कहा- कंचन, यह बंगलौर है, यहाँ सब इसी तरह की फिल्में लगती हैं, चुपचाप आराम से ऐसी फिल्मों के मज़े लो ! पटियाला में ये सब देखने को नहीं मिलेगा।
वो पूरी फिल्म सेक्स पर ही आधारित थी, कंचन अब गर्म हो रही थी, वो गर्म गर्म साँसें फेंक रही थी, उसका बदन ऐंठ रहा था, शायद वो पहली बार किसी हाल में एडल्ट फिल्म देख रही थी।
मैंने पूछा- क्यों कंचन? पहले कभी देखी है ऐसी मस्त फिल्म?
कंचन- नहीं रे ! कभी नहीं देखी।
मैंने धीरे धीरे अपना दाहिना हाथ उनके पीछे से ले जाकर उनके कंधे पर रख दिया। मैंने देखा कि कंचन अपने हाथ से अपनी चूत को साड़ी के ऊपर से सहला रही हैं, शायद सेक्सी सीन देख कर उसकी चूत गीली हो रही थी। मेरा भी लंड खड़ा हो गया था, मैंने भी अपना बायाँ हाथ अपने लंड पर रख दिया। मैंने धीरे धीरे कंचन के पीठ पर हाथ फेरा, उन्होंने कुछ नहीं कहा, वो अपनी चूत को जोर जोर से रगड़ रही थी। मैंने उसकी पीठ पर से हाथ फेरना छोड़ दाहिने हाथ से उनके गले को लपेटा और अपनी तरफ उसे खींचते हुए लाया। कंचन मेरी तरफ झुक गई।
मैंने पूछा- क्यों कंचन, मज़ा आ रहा है फिल्म देखने में?
कंचन ने शर्माते हुए कहा- धत्त ! मुझे तो बड़ी शर्म आ रही है।
मैंने कहा- क्यों ? इसमें शर्माना कैसा? तुम और जीजा जी तो ऐसा करते होंगे न? तेरे एक हाथ जहाँ हैं न उससे तो लगता है कि मज़े आ रहे हैं तुम्हें !
कंचन- हाय राम, बड़ा बेशर्म हो गया है तू रे बंगलौर में रह कर ! बड़ा देखता है यहाँ-वहाँ कि कहाँ हाथ हैं, कहाँ नहीं?
मैंने कंचन के कान को अपने मुँह के पास लाया और कहा- जानती हो कंचन? ऐसी फिल्म देख कर मुझे भी कुछ कुछ होने लगता है।
कंचन ने अपने होंठ मेरे होंठों के पास लगभग सटाते हुए कहा- क्या होने लगता है?
मैंने अपने लंड को घिसते हुए कहा- वही, जो तुझे हो रहा है ! मन करता है कि यहीं निकाल दूँ !
कंचन- सिनेमा हाल में निकालते हो क्या?
मैंने- कई बार निकाला है, आज तुम हो इसलिए रुक गया हूँ।
कंचन- आज यहाँ मत निकाल, बाद में निकाल लेना।
थोड़ी देर में फिल्म की नायिका अपना मुम्मा मसलवा रही थी, हम दोनों और गर्म हो गए तो मैंने कंचन के कान में अपने होंठ सटा कर कहा- देख कंचन, साली का मुम्मा क्या मस्त हैं ! नहीं?
कंचन- ऐसा तो सबका होता हैं।
मैंने- तुम्हारा भी ऐसा ही है क्या?
कंचन- और नहीं तो क्या?
मैंने- तेरा मुम्मा छूकर देखूँ क्या?
कंचन- हाँ, छू कर देख ले।
मैंने अपना दाहिना हाथ से उसका मुम्मा पकड़ लिया और दबाने लगा। उन्होंने अपना सर मेरे कंधे पर रख दिया और आराम से अपने मुम्में दबवाने लगी। मैंने धीरे धीरे अपना दाहिना हाथ उसके ब्लाउज के अन्दर डाल दिया, फिर ब्रा के अन्दर हाथ डाल कर उनके बड़े बड़े मुम्में को मसलने लगा, वो मस्त हुई जा रही थी।
मैं- अपनी ब्लाउज खोल दो ना ! तब मज़े से दबाऊँगा।
उसने कहा- यहाँ?
मैंने कहा- और नहीं तो क्या? साड़ी से ढके रहना, यहाँ कोई नहीं देखने वाला।
वो भी गर्म हो चुकी थी, उन्होंने ब्लाउज खोल दिया, लगे हाथ ब्रा भी खोल दिया और अपने नंगे मुम्मों को अपनी साड़ी से ढक लिया। मैंने मज़े ले लेकर नंगे मुम्मों को सिनेमा हाल में ही दबाना चालू कर दिया।
मैं जो चाहता था वो मुझे करने दे रही थी, मुझे पूरी आजादी दे रखी थी। मैंने अपने बाएं हाथ से उनके बाएं हाथ को पकड़ा और उनके हाथ को अपने लंड पर रख दिया और धीरे से कहा- देखो ना ! कितना खड़ा हो गया है।
कंचन ने मेरे लंड को जींस के ऊपर से दबाना चालू कर दिया।
अब मैंने देख लिया कि कंचन पूरी तरह से गर्म है तो मैंने अपना हाथ उनके ब्लाउज से निकाला और उसके पेट पर ले जाकर नाभि को सहलाने लगा, धीरे धीरे मैंने अपने हाथ को नुकीला बनाया और नाभि के नीचे उसकी साड़ी के अन्दर डाल दिया। कंचन थोड़ी चौड़ी हो गई जिससे मुझे हाथ और नीचे ले जाने में सहूलियत हो सके। मैंने अपना हाथ और नीचे किया तो उसकी पेंटी मिल गई, मैंने उसकी पेंटी में हाथ डाला और उनके चूत पर हाथ ले गया।
ओह क्या चूत थी ! एकदम घने बाल ! पूरी तरह से चिपचिपी हो गई थी। मैं काफी देर तक उसकी चूत को सहलाता रहा और वो मेरे लंड को दबा रही थी। मैंने अपने दाहिने हाथ की एक उंगली उसकी चूत के अन्दर घुसा दी।वो पागल सी हो गई।
उन्होंने आसपास देखा तो कोई भी हमारे पास नहीं था, उन्होंने अपनी साड़ी को नीचे से उठाया और जांघ के ऊपर तक ले आई, फिर मेरे हाथ को साड़ी के ऊपर से हटा कर नीचे से खुले हुए रास्ते से लाकर अपनी चूत पर रख कर बोली- अब आराम से कर, जो करना है।
अब मैं उसकी चूत को आराम से मसल रहा था, उन्होंने अपनी पेंटी को नीचे सरका दिया था। मैंने उसकी चूत में उंगली डालनी शुरू की तो उसने अपनी जांघें और चौड़ी कर ली।
उन्होंने मेरे कान में कहा- तू भी अपनी जींस की पेंट खोल ना, मैं भी तेरा सहलाऊँ।
मैंने जींस की ज़िप खोल दी, लंड डण्डे की तरह खड़ा था, कंचन ने बिना किसी हिचक के मेरे लंड को पकड़ा और सहलाने लगी।मैं भी उसकी चूत में अपनी उंगली डाल कर अन्दर-बाहर करने लगा। वो सिसकारी भर रही थी। मेरा लंड भी एकदम चिपचिपा हो गया था।
मैंने कहा- कंचन, अब बर्दाश्त नहीं होता. अब मुझे मुठ मार कर माल निकालना ही पड़ेगा।
कंचन- आज मैं मार देती हूँ तेरी मुठ ! मुझसे मुठ मरवाएगा?
मैंने कहा- तुम्हें आता है लंड की मुठ मारना?
कंचन- मुझे क्या नहीं आता? तेरे जीजा जी का लगभग हर रात को मुठ मारती हूँ। सिर्फ हाथ से ही नही… किसी और से भी..
मैंने कहा- किसी और से कैसे?
कंचन- तुझे नहीं पता कि लंड का मुठ मारने में हाथ के अलावा और किस चीज का इस्तेमाल होता है?
मैंने कहा- पता है मुझे ! मुंह से ना?
कंचन- तुझे तो सब पता है।
मैंने कहा- तुम जीजा जी का लंड अपने मुंह में लेकर चूसती हो?
कंचन- हाँ रे, बड़ा मजा आता है मुझे और उनको !
मैंने कहा- तुम जीजा जी का माल भी पीती हो?
कंचन- बहुत बार ! एकदम नमकीन मक्खन की तरह लगता है।
मैंने- तुम तो बहुत एक्सपर्ट हो, मेरी भी मुठ मार दो आज अपने हाथों से ही सही !
कंचन ने मेरे लंड को तेजी से ऊपर नीचे करना शुरू कर दिया। सचमुच काफी एक्सपर्ट थी वो। कंचन सिनेमा हाल के अँधेरे में मेरी मुठ मारने लगी। पहली बार कोई महिला मेरी मुठ मार रही थी, मैं ज्यादा देर बर्दाश्त नहीं कर पाया, धीरे से बोला- हाय कंचन, मेरा निकलने वाला है।
कंचन ने तुरन अपने साड़ी का पल्लू मेरे लंड पर लपेटा, सारा माल मैंने कंचन की साड़ी में ही गिरा दिया।
फिर मैं कंचन की चूत में उंगली अन्दर बाहर करने लगा, कंचन भी एडल्ट फिल्म की गर्मी बर्दाश्त नहीं कर पाई, उनका माल भी निकलने लगा, उन्होंने तुरंत अपनी चूत में से मेरी उंगली निकाली और साड़ी के पल्लू में अपना माल पोंछ डाला।
दो मिनट बाद अचानक बोली- भैया, चलो यहाँ से, अपने होटल के कमरे में !
मैंने कहा- क्यों? अभी तो फिल्म ख़त्म भी नहीं हुई है?
कंचन- नहीं, अभी चलो, मुझे काम है तुमसे !
मैंने- क्या काम है मुझसे?
कंचन- वही जो अभी यहाँ कर रहे हो, वहाँ आराम से करेंगे।
मैंने कहा- ठीक है चलो।
और हम लोग फिल्म चालू होने के 45 मिनट बाद ही निकल गए। हमारा होटल वहाँ से पांच मिनट की दूरी पर ही था। वहाँ से हम सीधे अपने कमरे में आ गये।

read more